प्यार में अंधे हुए देवर-भाभी, घरवालों को लगी खबर तो उठाया खौफनाक कदम

देवर और भाभी का रिश्ता एक हंसी है, अगर रिश्ते प्रेम संबंधों में बदलते हैं, तो कोई परिणाम नहीं हो सकता है। कभी-कभी यह ऐसा परिणाम होता है जिसके बारे में किसी ने नहीं सोचा होता है और कई लोगों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। ऐसी ही घटना उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में हुई थी।

चंदवक थाना क्षेत्र के बीरीबारी (सरूरपुर) गांव निवासी चंदू सावंत (22) पुत्र महेंद्र और उसकी भाभी नंदिनी (25) पत्नी चंद्रशेखर के बीच कई दिनों से अनबन चल रही थी। दोनों के बीच अवैध संबंधों के दौरान काफी पंचायत हुई लेकिन दोनों सुधरने को तैयार नहीं थे। नंदिनी की सास भी समझा कर परेशान हो गई।

चंदू नौकरी के लिए विदेश जाने वाला था। सोमवार को, परिवार के सदस्यों ने खुद को सुधारने और संबंध तोड़ने के लिए दोनों पर दबाव डाला। जो उन दोनों के परिवार के अन्य सदस्यों से बहुत कुछ लेता था।

बेटे को भी विषाक्त पदार्थ खिलाने की कोशिश

इसके बाद दोनों ने परिवार के सदस्यों के सामने विषाक्त पदार्थ खा लिया। नंदिनी ने अपने डेढ़ बेटे को भी विषाक्त पदार्थ खिलाने की कोशिश की। दोनों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां गंभीर दिखने वाले डॉक्टर की हालत गंभीर देखते हुए दोनों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

दोनों को जिला अस्पताल से वाराणसी रेफर कर दिया गया। एक निजी अस्पताल वाराणसी ले जाया गया जहां चंदू की सोमवार रात को मौत हो गई, जबकि मंगलवार सुबह नंदिनी की भी मौत हो गई। दोनों के शव घर आते ही परिवार में कोहराम मच गया।

परिजनों ने पुलिस को कोई सूचना दिए बिना ही पुलिस को सूचना दी, दोनों ने गोमती नदी के चंदवक घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया। सूचना पर पुलिस घाट पर पहुंची लेकिन नंदिनी के मायके वाले पुलिस के लौटने पर कोई तहरीर देने को तैयार नहीं हुए।

Add Comment